Monday , July 24 2017

1GB इंटरनेट 10,000 रूपए का दे रही कंपनियां! जानिए इससे कैसे बचे?

क्या आपको पता है मोबाइल नंबर पर इंटरनेट डाटा खत्म होने के बाद टेलीकाॅम कंपनियां किस दर से पैसा वसूलती है? क्या आपके साथ कभी ऐसा हुआ है कि डाटा प्लान खत्म होने के बाद एक दम से 100-200 रुपए बैलेंस से कट गए हो। टेलीकाॅम कंपनियां डाटा प्लान खत्म होने के बाद 1GB इंटरनेट का 10,000 रुपए तक पैसा वसुलती है। यहां तक कि डाटा प्लान खत्म होने के बाद ग्राहक को किसी तरह की जानकारी भी नहीं दी जाती और बैलैंस कटता रहता है। एक तरह से यह स्कैम है। इस आर्टिकल में हम आपको इसी स्कैम और इससे बचने के बारे में बताएंगे।

भारत में अभी टेलीकाॅम सेक्टर एक बहुत ही क्रांतिकारी बदलाव के दौर से गुजर रहा है। रिलायंस जियो के लाॅन्च के बाद से ही की लोग इंटरनेट से जुड़ रहे हैं और आॅनलाइन आ रहे हैं। अन्य टेलीकाॅम कंपनियां भी इसी बात का फायदा उठाना चाहती है और बाजार में अपनी पैठ बनाना चाहती है। किसी भी तरह से सभी टेलीकाॅम कंपनियां बाजार में अच्छे टैरिफ प्लान लाकर ग्राहकों को रुझाना चाहती है। हम विभिन्न टेलीकाॅम कंपनियों के टैरिफ प्लान की पहले से ही तुलना कर चुके हैं।

कंपनियों के ये टैरिफ प्लान जरुरत के हिसाब से अलग-अलग है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि एक बार ये डाटा प्लान खत्म हो जाते हैं तो ये ही कंपनियां आपसे कितना पैसा वसुलती है। कई बार आपने महीने में 2GB का रिचार्ज करवाया होगा और महीना खत्म होने से पहले ही 2GB खत्म भी हो गया होगा। लेकिन उसके बाद आपका इंटरनेट नहीं रूकता है और आपके मुख्य बैलेंस में से ही पैसा कटने लग जाता है। इसके चलते कई बार 100-300 रुपए तक आपके कटे भी होगें। यहां गौर करने वाली बात यह है कि कंपनियां डाटा प्लान खत्म होने की सूचना तक नहीं देती है औऱ मुख्य बैलेंस में से पैसा काटने लग जाती है।

डाटा प्लान खत्म होने के बाद टेलीकाॅम कंपनियों का साफ हिसाब है कि जितना आप इस्तेमाल करते हैं उतना बैलेंस कटता है। ज्यादातर लोगों को इस बारे में पता भी होगा। लेकिन कई बार हम इसकी उपेक्षा कर जाते हैं। इस आर्टिकल में आज हम आपको इसी बारे में बताने जा रहे हैं। इसके लिए चलिए एयरटेल का उदाहरण लेते हैं। अगर आपने एयरटेल का इंटरनेट डाटा रिचार्ज करवाया हुआ है। और एक बार यह प्लान खत्म होने के बाद आपको किसी तरह की सूचना नहीं मिलेगी। एयरटेल सीधे आपके मुख्य बैलेंस में से 10 पैसा प्रति Kb की दर से पैसा काटना शुरु कर देगा। 10p/10Kb दिखने में बहुत ही कम पैसा लगता है। इसलिए हम इसकी उपेक्षा कर देते हैं। लेकिन यह दर 1GB के लिए 10,000 रुपए हो जाती है।
Airtel Plan

यहां यह भी ध्यान रखें कि यह मामला केवल एयरटेल के साथ ही नहीं है। ज्यादातर टेलीकाॅम कंपनियां इसी दर से चार्ज करती है और डाटा खत्म होने के बाद बिना किसी सूचना के पैसे काटना शुरु भी कर देती है जो कि गलत बात है। अगर आप इस बारे में इन्हीं कंपनियों से पूछें तो वे जवाब देगीं कि ऐसा वे बिना रूके लगातार कनेक्टिविटी देने के लिए करती है। नीचे दी गई टेबल में आप सभी कंपनियों के डाटा दर देख सकते हैं।
Telecom operators

इसे कैसे रोकें?

जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया, इस रोका जाना चाहिए। चाहे कनेक्टिविटी कितनी ही अच्छी क्यों ना हो लेकिन जब ये जेब पर भारी पड़ने लगे तो इसे विराम देना ही चाहिए। इस बारे में टेलीकाॅम कंपनियों को कुछ नहीं करने वाली है। ग्राहक को ही जागरुक होकर खुद कुछ करना होगा। इसके लिए कुछ तरीके है जिनसे आप डाटा खत्म होने के बारे में जानकारी ले सकते हैं और जेब ढीली होने से बच सकते हैं।

हमेशा डाटा लिमिट सेट रखे

एंड्राॅयड की सेटिंग्स में डाटा लिमिट का एक आॅप्शन होता है। यह फीचर लगभग सभी एंड्राॅय़ड स्मार्टफोन में उपलब्ध होता है। यह डाटा कम होने की स्थिति में एक अलर्ट देता है और आपको डाटा ज्यादा इस्तेमाल करने से रोकता है। आप चाहे तो अपने एंड्राॅयड स्मार्टफोन की सेटिंग्स में जाकर अभी इसे चालू कर सकते हैं। डाटा लिमिट को 80 प्रतिशत पर सेट कर दें और समय पर आपको वार्निंग मिल जाएगी।

ऐप से डाटा ट्रेक करें

ज्यादातर टेलीकाॅम कंपनियां अपनी ऐप में डाटा ट्रेक करने की सुविधा देती है। जैसे कि एयरटेल की MyAirtel ऐप और जियो की MyJio ऐप की मदद से आप डाटा ट्रेक कर सकते हैं। गूगल प्ले स्टोर पर जाकर आप इन ऐप को इंस्टाॅल कर सकते हैं। जिससे की डाटा खत्म होने के बारे में आपको पता चलता रहे।

95% पर ही इंटरनेट बंद कर दें

दुर्घटना से देर भली। ठीक इसी तरह 100 प्रतिशत डाटा इस्तेमाल करने के चक्कर में कहीं बैलेंस ही कट जाए। उससे पहले ही 95 प्रतिशत डाटा खत्म होने या फिर 10-20MB बचे रहने तक ही डाटा को पूरी तरह बंद कर दें औऱ नया डाटा प्लान रिचार्ज करवा लें।

बैलेंस ही कम रखें

स्थिति से बचने के लिए आप चाहें तो मोबाइल नंबर का बैलैंस कम रख सकते हैं। 10-20 रुपए का बैलेंस होने पर औऱ डाटा खत्म होने पर केवल ये ही रूपए कटेगें जिनका ज्यादा गम भी नहीं लगेगा। प्रीपेड नंबर को कभी भी आगे रिचार्ज करवा सकते हैं।

यह समस्या तब ही पूरी तरह खत्म हो सकती है जब ये टेलीकाॅम कंपनियां डाटा के लिए ज्यादा पैसा चार्ज करना बंद कर देगी। अलग आपके साथ भी पहले कुछ इसी तरह की घटना हो चुकी है तो उसे कमेंट कर हमें जरुर बताएं।

आप टेकसंदेश के Guides/ How To सेक्शन में जाकर भी अन्य आर्टिकल पढ़ सकते हैं। ज्यादा जानकारी के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्वीटर या यूट्यूब पर बने रहें।

Check Also

Telecom tower

क्या मोबाइल टाॅवर रेडिएशन से कैंसर होता है? जानिए अापके क्षेत्र के टाॅवर सुरक्षित है या नहीं?

मोबाइल टाॅवर रेडिएशन से स्वास्थ्य पर असर होता है या नहीं? यह सवाल कई लोगों …