Monday , April 24 2017
AAdhar

आधार कार्ड के बिना काम नहीं करेगा मोबाइल नंबर, एक वर्ष में दोबारा होगा सभी का वेरिफिकेशन

हमने आपको कुछ समय पहले बताया था कि सुप्रीम कोर्ट ने देश के सभी मोबाइल फोन नंबर को आधार कार्ड से जोड़ने के आदेश दे दिए है और इसके लिए विभिन्न टेलीकाॅम कंपनियों को अगले एक साल के भीतर इस प्रक्रिया को पूरा करने के लिए निर्देश भी दे दिया है। अब इस आदेश की पालना भी शुरु हो गई है। गुरुवार को भारत सरकार के दूरसंचार विभाग ने एक सूचना जारी कर इस प्रक्रिया को दोहराने के लिए सभी टेलीकाॅम कंपनियों को कहा है। गौरतलब है कि वर्तमान में e-KYC से आधार कार्ड और फिंगरप्रिंट लेकर नई सिम आदि जारी की जा रही है। इसके तहत ग्राहक के आधार नंबर और अंगूठे का स्कैन कर ही नई सिम जारी कर दी जाती है। इससे यह प्रक्रिया पूरी तरह से कागज रहित हुई है और सिम एक्टिवेशन में भी तेजी आई है। लेकिन अभी तक यह केवल नई सिम लेने के लिए होता था। अब नए दिशानिर्देशों के अनुसार पूरानी सिमधारकों को भी अपने मोबाइल नंबर से आधार कार्ड को जोड़ना होगा। मतलब कि आधार से सिम का फिर से वेरिफिकेशन करवाना होगा।

इस जानकारी के बाद यह साफ हो गया है कि अगर किसी के पास आधार कार्ड नहीं है तो उसका मोबाइल नंबर भी डिएक्टिवेट हो जाएगा। लेकिन यह काम पूरी प्रक्रिया को दोहरना के बाद करीब एक साल के बाद किया जाएगा। इसलिए आपके पास अभी भी आधार कार्ड नहीं है तो इसे बनाने के लिए तैयार हो जाइए। प्रक्रिया के तहत जल्द ही प्रीपैड औऱ पोस्टपैड दोनों तरह के सिमधारकों को वेरिफिकेशन किया जाएगा।

गौरतलब है कि लोकनीति फाउडेंशन vs यूनियन आॅफ इंडिया ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की थी। जिसके बाद ही सुप्रीम कोर्ट ने इसी वर्ष फरवरी माह में सभी टेलीकाॅम कंपनियों को मोबाइल नंबर को आधार कार्ड से जोड़ने का आदेश जारी किया था। इसके लिए सुप्रीम कोर्ड ने सभी कंपनियों को एक वर्ष का समय दिया है। जिसके बाद ही TRAI, UIDAI, PMO आदि सरकारी विभागों की विभिन्न टेलीकाॅम कंपनियों के साथ मीटिंग हुई थी। जिसमें इस प्रक्रिया को पूरा करने के बारे में बातचीत की गई थी।

ऐसे होगा फिर से वेरिफिकेशन

आपको बता दे कि मोबाइल नंबर को आधार कार्ड से जोड़ने की यह प्रक्रिया सभी को करनी है। अन्यथा आपका मोबाइल नंबर 2 फरवरी 2018 से काम करना बंद कर देगा। इसके लिए पहले टेलीकाॅम कंपनियां सभी सिमधारकों को टीवी या न्यूजपेपर में विज्ञापन देकर सूचना देगी। इसके साथ ही ग्राहकों को मोबाइल नंबर पर मैसेज कर भी उन्हें सूचित किया जाएगा। ग्राहकों से अपनी आधार संबंधित जरुरी जानकारी टेलीकाॅम कंपनियां अपनी वेबसाइट पर अपलोड करने के लिए भी पूछेगी। प्रक्रिया में ग्राहकों की सुविधा का भी ध्यान रखा जाने के लिए कहा गया है। जिससे कि लंबी लाइनों और समय की बर्बादी से बचा जा सके। फिर से वेरिफिकेशन करने के लिए आपके पास एक मैसेज आएगा, जिसमें मोबाइल नंबर को आधार से जोड़ने के बारे में पूछा जाएगा। जिसके बाद आपको e-KYC समेत आगे की प्रक्रिया दोहरानी होगी। टेलीकाॅम कंपनियां किसी ग्राहक के पास एक से ज्यादा मोबाइल नंबर होने की स्थिति में एक ही बार में e-KYC प्रक्रिया को दोहरा सकती है। वहीं डाटा कार्ड होने पर SMS नहीं भेजे जा की स्थिति में इनका फिजिकल वेरिफिकेशऩ किया जाएगा।

देश में बैंक खातों को आधार कार्ड से जोड़ने की प्रक्रिया तो पहले से ही चल रही है। हाल ही में सरकार ने नोटिफिकेशऩ जारी कर पैन कार्ड को भी आधार कार्ड से जोडऩे अनिवार्ड कर दिया है। पैन कार्ड को आधार कार्ड से ना जोड़ने की स्थिति में पैन कार्ड भी निरस्त हो जाएगा। कुछ इसी तरह अब मोबाइल नंबरों को भी आधार कार्ड से जोडऩे का आदेश जारी किया गया है। बताया जा रहा है कि इससे फर्जी मोबाइल नंबरों को बंद करने में मदद भी मिलेगी।

आप टेकसंदेश के Guides/ How To सेक्शन में जाकर भी अन्य आर्टिकल पढ़ सकते हैं। ज्यादा जानकारी के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्वीटर या यूट्यूब पर बने रहें।

Check Also

Jio feature phone

जियो 4G फीचर फोन जून में होगा लाॅन्च, जानें ये 10 महत्वपूर्ण बातें

रिलायंस जियो पिछले कुछ दिनों से अपने जियो धन धना धन आॅफर के चलते चर्चा …