Monday , October 23 2017
Gorilla Glass Display

गोरिल्ला ग्लास क्या है? जानिए स्मार्टफोन डिस्प्ले पर स्क्रीन प्रोटेक्टर लगाएं या नहीं?

दोस्तों, ज्यादा पूरानी बात नहीं है लेकिन आपको याद होगा कि पहले फोन के डिस्प्ले को लेकर बहुत सतर्क रहना पड़ता था। फोन की स्क्रीन पर हल्का सा स्क्रैच भी हमें दुखी कर देता था। उस पर अगर फोन गिर जाए और स्क्रीन टूट जाएं तो कंपनियों के सर्विस सेंटर के भी कई दिनों तक चक्कर लगाने पड़ते थे। लेकिन थोड़े ही वक्त में तकनीक ने करवट बदली और आजकल स्मार्टफोन के डिस्प्ले चट्टान सी मजबूती से आने लगे हैं। मजबूत होने के साथ ही ये डिस्प्ले समय के साथ स्क्रैच रेजिस्टेंट भी हो गए है। जिसका मतलब यह कि इनमें खरोंच आने की संभावना कम होती है। तकनीक ने फोन का डिस्प्ले बचाने वाली चिंता को छूमंतर कर दिया है। ऐसा मजबूत ग्लास की वजह से हुआ है।

आपने कई बार स्मार्टफोन खरीदते हुए उसके स्पेशिफिकेशन में विभिन्न तरह के डिस्प्ले के बारे में देखा होगा। कई कंपनियां फोन के डिस्प्ले की मजबूती औऱ कठोरता की भी मार्केटिंग कर उसे बेचती है। आजकल के स्मार्टफोन में डिस्प्ले इतने मजबूत आने लगे हैं कि फोन को ऊंचाई से गिराने पर फोन की बाॅडी तो निकल जाती है लेकिन डिस्प्ले पर हल्के से स्क्रैच ही आते हैं। आपने गोरिल्ला ग्लास डिस्प्ले के बारे में भी सुना ही होगा। कई स्मार्टफोन में गोरिल्ला ग्लास आता है। लेकिन क्या आपको पता है कि ये कोर्निंग गोरिल्ला ग्लास आखिर होता क्या है?

गोरिल्ला ग्लास भी एक तरह का मजबूत ग्लास होता है जिसे कोर्निंग नाम की कंपनी बनाती है। असाही का ड्रैगनट्रैल ग्लास आदि नाम के ग्लास भी अऩ्य कंपनिया बनाती है। लेकिन इनमें से गोरिल्ला ग्लास ज्यादा लोकप्रिय है। गोरिल्ला ग्लास की अभी पांच जनरेशन लाॅन्च हुई है। गोरिल्ला ग्लास 5 वजन में हल्का, पतला औऱ डैमेज रेजिस्टेंट होता है। कई लेटेस्ट स्मार्टफोन गोरिल्ला ग्लास 5 के साथ आ रहे हैं।

गोरिल्ला ग्लास का इतिहास

सबसे पहला वर्जन कोर्निंग गोरिल्ला ग्लास 1 को फरवरी, 2008 में लाॅन्च किया गया था। जिसके बाद कंपनी इसे मजबूत और स्क्रैच रेजिस्टेंट बनाती गई और एक के बाद एक नए वर्जन लाॅन्च करती गई। सबसे नया वर्जन गोरिल्ला ग्लास 5 पिछले ही वर्ष जुलाई में लाॅन्च हुआ था। इसका सबसे पहले इस्तेमाल सैमसंग ने अपने गैलेक्सी नोट 7 स्मार्टफोन में किया था। आपको बता दे कि गोरिल्ला ग्लास को ना केवल स्मार्टफोन बल्कि टीवी, पर्सनल कम्यूटर, नोटबुक, स्मार्टवाॅच आदि के डिस्प्ले में भी प्रयोग किया जाता है। गोरिल्ला ग्लास को बनाने वाली कंपनी कोर्निंग प्रत्येक वर्जन के साथ इसे ज्यादा से ज्यादा मजबूत करती जा रही है। इस ग्लास को अमेरिका, कोरिया और ताइवान आदि देशों में बनाया जाता है।

कैसे बनता है गोरिल्ला ग्लास

जैसा कि आपको पहले बताया कि गोरिल्ला ग्लास साधारण ग्लास से मजबूत होता है। इसी के चलते इसे बनाते समय थोड़ी अलग प्रक्रिया काम में ली जाती है। ग्लास बनाने की प्रक्रिया के बीच ही कुछ तत्व मिला दिए जाते हैं जिससे यह ठोस बनता है। हालांकि कोर्निंग ने ग्लास को बनाने की पूरी प्रक्रिया पब्लिक नहीं की है। गोरिल्ला ग्लास एलुमिनोसिलिकेट का बना होता है।

स्क्रीन प्रोटेक्टर लगाएं या नहीं?

screen protector

गोरिल्ला ग्लास मजबूत होता है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं दोस्तों की उसके साथ आप टेबल टेनिस ही खेलना शुरु हो जाएं। कहने का मतलब है कि एक हद तक मजबूत होता है। अगर आपके स्मार्टफोन में किसी तरह का मजबूत ग्लास है तो साधारण इस्तेमाल से स्क्रीन पर किसी तरह के स्क्रैच आदि नहीं पड़ेगें। इसलिए अगर आपने जेब में स्मार्टफोन के साथ सिक्के या चाबी को रख दिया है तो आमतौर पर स्क्रीन पर स्क्रैच नहीं आएंगे। लेकिन स्मार्टफोन कई बार जमीन पर नीचे गिरा तो हो सकता है धूल या कंकड़ आदि से उस पर निशान बन जाएं। इसलिए कहते हैं ना कि दुर्धटना से सावधानी भली, तो आप भी अपने स्मार्टफोन की स्क्रीन पर हो सके तो स्क्रीन प्रोटेक्टर जरुर लगाकर रखें। क्योंकि एक बार अगर स्क्रीन को कुछ हो गया और उसे आप बदलवाने जाएंगे तो वह बहुत खर्चीला काम होता है। इसलिए जब 100 रुपए के प्रोटेक्टर से सुरक्षा मिल रही है तो इसे जरुर ही लगावें। कोर्निंग गोरिल्ला ग्लास के पीछे छुपे साइंस के बारे में ज्यादा जानने के लिए आप नीचे दिया गया वीडियो भी देख सकते हैं।

अगर गोरिल्ला ग्लास या स्क्रीन प्रोटेक्शन के बारे में आपके भी कोई सुझाव, राय या अन्य जानकारी देना चाहते है तो उन्हें हमारे साथ कमेंट में जरुर शेयर करें। बेस्ट कमेंट को आर्टिकल में जोड़ लिया जाएगा।

आप टेकसंदेश के Guides/ How To सेक्शन में जाकर भी अन्य आर्टिकल पढ़ सकते हैं। ज्यादा जानकारी के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्वीटर या यूट्यूब पर बने रहें।

Check Also

AAdhar

नंबर डिएक्टिवेट होने से बचाएं – आधार कार्ड से मोबाइल नंबर को लिंक कैसे करवाएं?

जैसा कि हमने आपको पहले बताया था कि कुछ समय बाद आधार कार्ड के बिना …