Sunday , June 25 2017
Phone driving

गाड़ी चलाते समय फोन पर बात करने पर कटेगा ई-चालान

क्या आपको पता है कि देश में प्रत्येक मिनट एक एक्सिडेंट होता है और हर घंटे विभिन्न दुर्घटनाओं में करीब 16 लोगों की जान चली जाती है। दुनिया में सबसे ज्यादा सड़क दुर्घटनाओं भारत में होती है। शहरों की बात करें तो देश की राजधानी दिल्ली में सबसे ज्यादा दुर्घटनाएं होती है। वर्तमान में इन्हीं दुर्घटनाओं को कम करने के लिए सरकार भी प्रयास कर रही है। हाल ही में करीब तीस वर्ष पूराने मोटर व्हीकल एक्ट को भी सुधारकर पास कर दिया गया है। जिसमें यातायात नियमों को पहले से कई कड़ा बना दिया है। इसी कड़ी में आगे बढ़ते हुए दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने फोन पर बात करते हुए गाड़ी चलाने वालों पर कार्रवाही करने के लिए ई-चालान की शुरूआत की है।

इसलिए अगर आप दिल्ली के नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे पर ड्राइविंग करने जा रहे हैं तो भूलकर भी फोन पर बात करने की ना सोचें। क्योंकि अगर आपने ऐसा किया तो सीधे ई-चालान आपके घर पहुंच जाएगा। इसके साथ ही सीट बेल्ट ना पहनने वाले ड्राइवर को भी ई-चालान भेजने का निर्णय लिया गया है।

चप्पे-चप्पे पर कैमरे तैनात

अब आप सोच रहे होगें कि पुलिस को कैसे पता चलेगा कि आप गाड़ी चलाते समय फोन पर बात कर रहे हैं या आपने सीट बेल्ट नहीं लगा रखा। तो हम आपको बता दे कि एक्सप्रेस-वे पर पुलिस ने करीब 132 कैमरे लगा रखे हैं। ये हाई-रिजाॅल्यूशन कैमरे आपकी हर गतिविधि को रिकाॅर्ड कर लेते हैं और उसके अनुसार ही प्रतिक्रिया भी दे देते हैं। एक्सप्रेस-वे पर पुलिस ने 62 फिक्स्ड कैमरे, 31 घूम सकने वाले और 24 स्पीड कैचर कैमरे लगा रखे हैं। इनके अलावा 15 कैमरे केवल एक्सप्रेस-वे पर वाहन पार्क करने वाले लोगों पर नजर रखने के लिए लगा रखे हैं। ये कैमरे गलत साइड वाहन चलाने वालों को भी रिकाॅर्ड कर लेते हैं।

दिल्ली में यह एक्सप्रेस-वे करीब 24 किमी लम्बा है और हाइवे ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम (HTMS) के अन्तर्गत पुलिस ने इसमें बहुत जटिल टेक्नोलाॅजी का इस्तेमाल किया है। तेज गति से वाहन चलाने वालों को पहले से ही ई-चालान दिए भी जा रहे हैं। किसी भी तरह से नियमों का उल्लघंन पाएं जाने पर पुलिस सबूत के तौर पर फोटोग्राफ के साथ घर पर चालान भेज देती है।

इस ई-चालान को ट्रैफिक एसपी के आॅफिस या फिर कोर्ट में ही भरा जा सकता है। जानकारी के मुताबिक ये कैमरे पहले से ही लगे हुए हैं और पुलिस को बस अब कुछ बदलाव करने बाकि है जिसके बाद से ये व्यवस्था प्रभावी हो जाएगी।

आप टेकसंदेश के Guides/ How To सेक्शन में जाकर भी अन्य आर्टिकल पढ़ सकते हैं। ज्यादा जानकारी के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्वीटर या यूट्यूब पर बने रहें।

Check Also

weather android apps

डाउनलोड – एंड्राॅयड स्मार्टफोन के लिए बेस्ट मौसम ऐप्स & विजेट्स

एंड्राॅयड स्मार्टफोन को इसके विजेट्स आईफोन आदि से अलग बनाते हैं। एंड्राॅयड स्मार्टफोन के लिए …