Sunday , April 23 2017
ISRO

इसरो मार्च में लाॅन्च कर सकता है सार्क सैटेलाइट, वर्ष 2018 में चंद्रायान-2

इंडियन स्पेस रिसर्च आॅर्गेनाइजेशन (ISRO) इस वर्ष मार्च औऱ अप्रैल माह में दक्षिण भारतीय सहयोग संगठन (SAARC) देशों के लिए एक सैटेलाइट लाॅन्च कर सकता है। सार्क में दक्षिण एशिया के देश जैसे अफगानिस्तान, बांग्लादेश, भूटान, नेपाल, इंडिया, मालदीव, पाकिस्तान और श्रीलंका आते हैं। वर्ष 2014 में नेपाल में आयोजित हुई सार्क समिट के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने संगठन को गिफ्ट के तौर पर सार्क सैटेलाइट लाॅन्च करने की घोषणा की थी। लेकिन पाकिस्तान ने इस योजना पर अपनी शंकाएं जताई थी।

इसी के चलते अब तीन साल बाद पाकिस्तान की ओर से साफ स्थिति ना बनने की स्थिति में भारत पाकिस्तान के बिना ही इस सैटेलाइट को बाकि देशों के लिए लाॅन्च करने जा रहा है। सैटेलाइट के लिए पाकिस्तान को छोड़ अन्य देश तैयार है। सार्क सैटेलाइट से दक्षिण एशियाई देशों में टेलीकम्यूनिकेशन औऱ टेलीमेडिसिन समेत अन्य क्षेत्रों में काम आ सकेगी।

इस बारे में इसरो के चेयरमैन AS किरन कुमार ने बताया कि “हम अप्रैल और मार्च में दो सैटेलाइट लाॅन्च करने की योजना बना रहे हैं। इसके लिए तैयारियां जोरों पर है। GSLV मार्क II सार्क सैटेलाइट को ले जाएगा। वहीं GSLV मार्क III कम्यूनिकेशन सैटेलाइट GSAT-19 को ले जाएगा।”

उन्होंने चन्द्रयान-2 मिशन के बारे में भी बताया कि “हम इसे वर्ष 2018 के शुरुआती महीनों में लाॅन्च करने की योजना बना रहे हैं।” किसी मानव अंतरिक्ष उड़ान के बारे में पूछने पर उन्होंने बताया कि अभी यह उनकी प्राथमिकताओं में शामिल नहीं है।

लेकिन चन्द्रयान-2 इसरो का चन्द्रमा के लिए दूसरा मिशन होगा। यह चन्द्रयान-1 से ज्यादा उन्नत किस्म को होगा। इसमें आॅर्बिटर, लैंडर और रोवर शामिल है। आॅर्बिटर चन्द्रमा के आसपास परिक्रमा करेगा तो वहीं लैंडर चन्द्रमा के किसी हिस्से में उतरकर लैंडर को छोड़ेगा। यह यान चन्द्रमा के खनिज और भूमिगत अध्ययन के लिए भेजा जाएगा।

आप टेकसंदेश के Guides/ How To सेक्शन में जाकर भी अन्य आर्टिकल पढ़ सकते हैं। ज्यादा जानकारी के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्वीटर या यूट्यूब पर बने रहें।

Check Also

Jio feature phone

जियो 4G फीचर फोन जून में होगा लाॅन्च, जानें ये 10 महत्वपूर्ण बातें

रिलायंस जियो पिछले कुछ दिनों से अपने जियो धन धना धन आॅफर के चलते चर्चा …