Friday , August 18 2017
hacking hindi

क्या है ‘वानाक्राई’ रैनसमवेयर सायबर अटैक? जानिए अपने कम्प्यूटर को इससे कैसे बचाएं?

पिछले सप्ताह शुक्रवार को एक खबर आई जिसमें पता चला है कि दुनिया भर के करीब डेढ़ सौ देशों के कंप्यूटर एक साइबर अटैक की जद में आ गए हैं। हैकर लिंक, ईमेल और अन्य माध्यम से खतरनाक रैनसमवेयर को एक-दूसरे कंप्यूटर पर भेज रहे हैं। अभी तक दुनियाभर में करीब दो लाख से भी ज्यादा कंप्यूटर इसकी गिरफ्त में आ चुके हैं। यह साइबर अटैक इतना खतरनाक है कि एक कंप्यूटर को इंफेक्ट करने के बाद उससे जुड़े अन्य सभी कम्प्यूटरों को निशाना बना लेता है। जिसके बाद यह करीब $300 से $600 बिटकॉइन में मांगना शुरु कर देता है। “वानाक्राई” रैनसमवेयर अब तक का सबसे खतरनाक साइबर अटैक है। इस आर्टिकल में हम आपको बताने जा रहे हैं कि यह क्या है? और किस तरह फैल रहा है? इसके साथ ही आप किस तरह इस साइबर अटैक से अपने कंप्यूटर को बचा सकते हैं?

क्या होता है “वानाक्राई” रैनसमवेयर?

  • वानक्राई एक तरह का रैनसमवेयर प्रोग्राम होता है जो माइक्रोसॉफ्ट विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलता है।
  • यह रैनसमवेयर इतना खतरनाक होता है कि पूरी तरह से आपके कंप्यूटर को अपने नियंत्रण में ले लेता है। इसके ऊपर यह आपको ही अपने कंप्यूटर के डाटा का इस्तेमाल नहीं करने देता है।
  • एक बार आपके कंप्यूटर में इंस्टाॅल होने के बाद यह फाइल आदि को लॉक कर देता है। अगर आप डेटा का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो आप से फिरौती या पैसे मांगता है।
  • इसकी सबसे अहम बात यह है कि यह माइक्रोसॉफ्ट के विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलने वाले कम्प्यूटर लैपटाॅप को ही टारगेट कर रहा है। खासतौर पर उन विंडोस कंप्यूटर को जो अभी भी बहुत पुराने वर्जन जैसे विंडोज XP आदि पर चल रहे हैं।
  • एक बार सिस्टम इंफेक्ट हो जाए तो यह कम्प्यूटर में एक विंडो दिखाता है। जिसमें यह $300 मांगता है। 3 दिन के अंदर पैसे या फिरौती नहीं देने पर रकम को डबल कर देता है और 3 दिन बाद $600 बिटकाॅइन मांगना शुरु कर देता है। बिटकॉइन एक डिजिटल करेंसी होती है जो इंटरनेट पर ज्यादा प्रचलित है।Wanna cry

रैनसमवेयर क्या होता है?

जिस तरह एंटीवायरस कई प्रकार के होते हैं। ठीक उसी तरह रैनसमवेयर भी अलग-अलग हो सकते हैं। वर्तमान में जो अटैक हुआ है वह रैनसमवेयर प्रकार का है और इसका नाम “वानाक्राई” है। रैनसमवेयर एक तरह का सॉफ्टवेयर होता है जो आपके कंप्यूटर सिस्टम को अपने नियंत्रण में ले लेता है और पैसे मांगता है।

कैसे फैलता है वानाक्राई रैनसमवेयर?

ransomware-illustration

“वानाक्राई” रैनसमवेयर से बचने के लिए सबसे पहले यह जान लेना जरूरी है कि आखिर यह फैलता कैसे है? जैसा कि हमने आपको बताया कि यह एक तरह का प्रोग्राम है जो कि आपके कंप्यूटर पर इनस्टॉल होता है। इसलिए अगर आपने किसी गलत लिंक या ईमेल या फिर पेन ड्राइव से किसी अनजाने प्रोग्राम/साॅफ्टवेयर को अपने कंप्यूटर में इंस्टॉल कर लिया है। तो हो सकता है उसके साथ ही है आपके कंप्यूटर में यह रैनसमवेयर भी इंस्टॉल हो जाए एक बार इंस्टॉल होने के बाद यह इतना खतरनाक है कि अगर आपने इसे फिरौती की रकम दे भी दी तो यह निश्चित नहीं कि यह कंप्यूटर का लाॅक खोल दे। यह भी हो सकता है कि एक बार पैसे देने के बाद फिर से आगे भी पैसे मांगता रहे।

रैनसमवेयर यहां फैला, साथ में फैली अफवाहें

Wannacry rainsomewhere

  • जानकारी के मुताबिक भारत समेत रूस, यूक्रेन, ताइवान आदि के शीर्ष संस्थानों के कंप्यूटर में यह रैनसमवेयर फैल चुका है।
  • ताजा जानकारी के मुताबिक भारत के भी एक-दो बैंकों, राज्य पुलिस डिपार्टमेंट आदि के कम्प्यूटरों में भी यह फैल चुका है।
  • भारत में व्हाट्सऐप पर भी एक मैसेज फैलाया जा रहा है कि इस रैनसमवेयर की वजह से भारत के सभी बैंकों के एटीएम हैक हो गए हैं। जिसके चलते बैंक आने वाले एक-
  • दो दिनों के लिए अपने एटीएम बंद करने जा रहे हैं। हम आपको बताना चाहते हैं कि यह पूरी तरह से अफवाह है और झूठी बात है। आरबीआई ने बैंकों को एटीएम बंद करने का इंस्ट्रक्शन या सलाह नहीं दी है।
  • भारत के ज्यादातर बैंकों के कम्प्यूटर इस अटैक से सुरक्षित है और उसके साथ ही उनके ATM भी सुरक्षित हैं। इस तरह से भारत में ATM बंद होने नहीं जा रहे हैं।
  • भारतीय आईटी मिनिस्टर रविशंकर प्रसाद ने मंगलवार को ही जानकारी दी है कि भारत पर इस अटैक का जीरो असर हुआ है।
  • आंध्रप्रदेश के पुलिस डिपार्टमेंट के कंप्यूटर को भी इस रैनसमवेयर ने हैक कर लिया है। जानकारी के मुताबिक 18 पुलिस यूनिट के कंप्यूटर हैक हो चुके हैं।

कैसे बचाएं अपने कंप्यूटर को

save your computer

  • सबसे पहले यह ध्यान रखें कि वानाक्राई रैनसमवेयर केवल पुराने विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलने वाले कंप्यूटर में ही फैल रहा है। इसलिए अगर आपके कंप्यूटर में भी विंडो 7 से नीचे का ऑपरेटिंग सिस्टम है तो उसे अपडेट कर ले और लेटेस्ट ऑपरेटिंग सिस्टम अपने कम्प्यूटर में इंस्टॉल कर लें।
  • इसके बाद अपने कंप्यूटर में एक लेटेस्ट एंटीवायरस प्रोग्राम इंस्टॉल कर लें। आप चाहे तो माइक्रोसॉफ्ट सिक्योरिटी एसेंशियल भी इंस्टाॅल कर सकते हैं। यह कंप्यूटर पर होने वाले किसी भी तरह के साइबर हमले से आपको बचाएगा।
  • अगर आपने पहले से कोई एंटीवायरस इंस्टॉल कर रखा है तो उसे एक बार अपडेट भी कर ले।
  • इंटरनेट चलाते हुए किसी भी तरह के लिंक या अटैचमेंट और ईमेल से आने वाले लिंक/अटैचमेंट पर क्लिक ना करें। अगर आपका कोई जानकार भी आपको ईमेल पर कोई अटैचमेंट या लिंक भेजता है तो उसे भी सावधानीपूर्वक खोलें।
  • अपने ब्राउजर पर पॉपअप ब्लॉक कर रखें।
  • आपके कंप्यूटर में सेव की गई सभी तरह की फाइलों, फोटो आदि का किसी अलग से हार्ड डिस्क में बैकअप रख लें।
  • भारत की डिजिटल सिक्योरिटी एजेंसी CERT-In ने इस बारे में एक रेड अलर्ट जारी किया है। उनकी वेबसाइट पर जाकर ज्यादा जानकारी प्राप्त करें।
  • इस रैनसमवेयर को रोकने के लिए माइक्रोसॉफ्ट भी एक के बाद एक सिक्योरिटी अपडेट्स भेज रहा है। जिसे भी आप अपने सिस्टम में इंस्टॉल कर सकते हैं और अपने सिस्टम को अपडेट रख सकते हैं।

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा, हमें कमेंट कर जरूर बताएं। इसके साथ ही आपके कोई सवाल या सुझाव है तो उन्हें भी शेयर करें। ज्यादा जानकारी के लिए टेक संदेश पढ़ते रहिए।

आप टेकसंदेश के Guides/ How To सेक्शन में जाकर भी अन्य आर्टिकल पढ़ सकते हैं। ज्यादा जानकारी के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्वीटर या यूट्यूब पर बने रहें।

Check Also

best smartphone (1)

5,000 रुपये से कम में बेस्ट मोबाइल फोन – जून 2017

स्मार्टफोन निर्माताओं के बीच चल रही गलाकाट प्रतिस्पर्धा के साथ किफायती स्मार्टफोन भी अब बेहतर …