Tuesday , June 27 2017
Call drop

DoT के सर्वे में आया सामने, 62% ग्राहकों ने बताई काॅल ड्राॅप की समस्या

डिपार्टमेंट आॅफ टेलीकाॅम (DoT) की ओऱ से करवाए गए एक सर्वे में आधे से ज्यादा ग्राहकों ने काॅल ड्राॅप होने की बात कबूली है। सर्वे में कुल 2,20,935 ग्राहकों ने भाग लिया था जिसमें से 1,38,072 ग्राहकों (करीब 62.5 प्रतिशत) ने काॅल ड्राॅप होने की बात कही है।

DoT ने यह सर्वे 23 दिसम्बर से 28 फरवरी 2017 के बीच करवाया था जिसमें यह बात सामने आई है। सर्वे आॅटोमेटेड काॅल सर्विस की ओर से करवाया गया था। इसमें ग्राहकों से सीधे फीडबैक लिया गया। DoT के आॅटोमेटेड काॅल सर्विस या इंटीग्रेटड वाॅइस रेसपोंस सिस्टम (IVRS) ने इस दौरान 16.61 लाख काॅल ग्राहकों को की और फीडबैक लिया। इस दौरान सभी कंपनियों के ग्राहकों को फोन किया गया।

सर्वे में यह भी सामने आया कि काॅल ड्राॅप की समस्या खासतौर से अंदरुनी इलाकों में आ रही है। DoT टेलीकाॅम कंपनियों से प्रत्येक सप्ताह इस मामले में फीडबैक शेयर करता है। सर्वे के दौरान ग्राहकों को काॅल करने औऱ मैसेज भेजने के साथ ही मामले में ज्यादा जानकारी हासिल करने के लिए 7,210 केस को रिजाॅल्यूशन के लिए चुना गया। इसके साथ ही 2,467 केस को आॅप्टिमाइजेशऩ, हार्डवेयर रिक्टिफाइंग और पावर प्राॅब्लम वाले केस में फील्ड विजिट कर हल कर लिया गया।

DoT का यह भी दावा है कि इस पहल से करीब 9,328 केस को IVRS के लाॅन्च के बाद हल कर लिया गया। करीब 603 साइट या बुस्टर को भी TSP की ओर से इंस्टालेशन के लिए चुन लिया गया। 5,529 केस जो काॅल ड्राॅप से नहीं जुड़े थे। लेकिन डाटा, रोमिंग, बिलिंग, MNP, मोबाइस डिवाइस आदि से जुड़े थे। उन पर भी टेलीकाॅम आॅपरेटरों की ओर से आवश्यक एक्शन लेने के लिए चिन्हिंत कर लिया गया। टेलीकाॅम आॅपरेटरों ने भी देश में जुन 2016 से फरवरी 2017 के बीच करीब 2,12,917 BTSs (बेस ट्रांसरिसीवर स्टेशन या मोबाइल साइट) को इंस्टाॅल किया।

Source – ET

आप टेकसंदेश के Guides/ How To सेक्शन में जाकर भी अन्य आर्टिकल पढ़ सकते हैं। ज्यादा जानकारी के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्वीटर या यूट्यूब पर बने रहें।

Check Also

Airtel

एयरटेल ने बदले अपने ब्राॅडबैंड प्लान, अब दे रहा दोगुना डाटा

रिलायंस जियो फाइबर के देश में लांच होने का असर अन्य रोड कंपनियों पर दिखना …