Tuesday , September 26 2017
ISRO

इसरो बढ़ाएगा देश में इंटरनेट की स्पीड, जल्द लाॅन्च करेगा सैटेलाइट

भारत इंटरनेट यूजर की संख्या के मामले में विश्व में चीन के बाद दूसरा स्थान आता है। भारत ने पिछले ही वर्ष अमेरिका को तीसरे स्थान पर धकेलकर यह दूसरा स्थान हासिल किया है। लेकिन देश में केवल इंटरनेट यूजर की संख्या ही बढ़ रही है। इंटरनेट स्पीड के मामले में अभी भी भारत पड़ोसी देशों से भी कहीं पीछे है। लेकिन इस स्थिति में अब बड़ा बदलाव आने की संभावना जताई जा रही है। इसके जल्द ही इंडियन स्पेस रिसर्च आॅर्गेनाइजेशन (ISRO) एक सैटेलाइट अंतिरक्ष में लाॅन्च करने जा रहा है।

इसरो आने वाले 18 महीनों में ये सैटेलाइट लाॅन्च कर देगा। इसरो इस मामले में पहले भी सैटेलाइट लाॅन्च कर चुका है। लेकिन इस बार की सैटलाइट उससे चार गुना तेज है। इन सैटेलाइट में आठ बीम होगी। पहले वाली सैटेलाइट जहां 1Gbps डाटा भेजती थी तो नई वाली 4Gbps की स्पीड से डाटा भेजेगी।

एक रिपोर्ट के मुताबिक इसरो के चेयरमैन किरन कुमार ने इस मामले में बताया कि,”हम तीन कम्यूनिकेशन सैटेलाइट लाॅन्च करेगें। आने वाले जून माह में GSAT-19 लाॅन्च करने के बाद GSAT-11 औऱ GSAT-20 लाॅन्च की जाएगी। ये सैटेलाइट मल्टीपल स्पाॅट बीम की तरह काम करेगी जो एक स्पेशल तरह का ट्रांसपोंडर होगी औऱ हाई फ्रिक्वेंसी पर काम करेगी। इससे देश में इंटरनेट की स्पीड औऱ कनेक्टिविटी बढ़ेगी। ये मल्टीपल स्पाॅट बीम पूरे देश को कवर करेगी।”

पूरे विश्व में अभी दक्षिण कोरिया में 26.3 Mbps के साथ सबसे तेज औसत इंटरनेट स्पीड है। जिसके बाद 20 Mbps स्पीड के साथ हांगकांग का नंबर आता है। यहां तक कि श्रीलंका में भी औसत इंटरनेट स्पीड 6 Mbps की है। लेकिन भारत में औसत इंटरनेट स्पीड केवल 4.1 Mbps ही है। इस तरह से भारत का स्थान पूरी दुनिया में 105वां है। वहीं चीन में 5.7 Mbps की औसत इंटरनेट स्पीड है।

हालांकि इसरो की ओर से लाॅन्च की जाने वाली ये सैटेलाइट इस तस्वीर को पूरी तरह बदलकर रख देगी औऱ देश में लोगों को तेज गति का इंटरनेट मिलने लगेगा। ये सैटेलाइट एक सीमित क्षेत्र को ही कवर करती है। इसलिए एक से ज्यादा सैटेलाइट लाॅन्च कर पूरे देश को तेज इंटरनेट से कवर किया जा सकेगा।

आप टेकसंदेश के Guides/ How To सेक्शन में जाकर भी अन्य आर्टिकल पढ़ सकते हैं। ज्यादा जानकारी के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्वीटर या यूट्यूब पर बने रहें।

Check Also

Phone driving

गाड़ी चलाते समय फोन पर बात करने पर कटेगा ई-चालान

क्या आपको पता है कि देश में प्रत्येक मिनट एक एक्सिडेंट होता है और हर …