Thursday , August 17 2017
the-mobile-economy-india
the-mobile-economy-india

मोबाइल इंडस्ट्री वर्ष 2020 तक देश की GDP का 8.2% होगी, 8 लाख नई नौकरियां: सरकार

भारत मोबाइल सब्सक्राइबर के मामले में विश्व में दूसरे स्थान पर है। इसके साथ ही देश चीन के बाद विश्व का दूसरा सबसे बड़ा स्मार्टफोन मार्केट भी है। इस वर्ष के जून माह तक देश में करीब 61 करोड़ से भी ज्यादा मोबाइल सर्विस का इस्तेमाल करने वाले यूजर हो गए थे। देश की लगभग आधी जनसंख्या के पास मोबाइल है। आने वाले दिनों में आम लोगों तक इनकी पहुंच बढ़ेगी और वर्ष 2020 तक 33 करोड़ नए लोग मोबाइल सर्विसेज से जुड़ जाएंगे। इस साल जून माह से पहले अमेरिका दूसरे पायदान पर काबिज था, लेकिन भारत ने जून माह आते ही अमेरिका को तीसरे पायदान पर धकेल दूसरे स्थान पर काबिज हो गया है। मोबाइल यूजर में हुई यह बढ़ोतरी देश की GDP में भी अपना योगदान बढ़ा रही है।

डिपार्टमेंट आॅफ इंडस्ट्रीयल पाॅलिसी एंड प्रमोशन(DIPP) और डिपार्टमेंट आॅफ टेलीकाॅम(DoT) ने साझा रिपोर्ट जारी कर कहा है कि वर्तमान में मोबाइल इंडस्ट्री देश की GDP में 6.5 प्रतिशत भाग रखती है। लेकिन जिस हिसाब से यह बढ़ रही है उसके अनुसार इसके वर्ष 2020 तक 8.2 प्रतिशत होने का अनुमान है। वर्ष 2015 में मोबाइल इंडस्टी का देश की GDP में करीब 9 लाख करोड़ रुपए का योगदान रहा है। लेकिन वर्ष 2020 आने पर यह आंकड़ा बढ़कर 14 लाख करोड़ रुपए तक पहुंचने का अनुमान लगाया जा रहा है।

इतना ही नहीं वर्ष 2015 में मोबाइल इंडस्ट्री देश के 22 लाख लोगों को रोजगार दे रही थी। लेकिन वर्ष 2020 में यह आंकड़ा 8 लाख ज्यादा होकर 30 लाख होने वाला है। इसका मतलब यह है कि मोबाइल इंडस्ट्री में आने वाले सालों में 8 लाख नई नौकरियां जनरेट होने वाली है। इसके साथ ही 20 लाख इनडायरेक्ट नौकरियां भी इंडस्ट्री में होगी। रिपोर्ट में GSMA की ‘द मोबाइल इकाॅनोमी इंडिया-2016’ का भी हवाला दिया गया है। जिसने इंडिया समेत विश्व के अन्य देशों की भी रिपोर्ट प्रकाशित की है।

जरुर पढ़े – विश्व की आधी से ज्यादा आबादी अभी भी इंटरनेट से अछूती: संयुक्त राष्ट्र

मोबाइल इंडस्ट्री से देश में इन्वेस्टमेंट की बात की जाए तो वोडाफोन इस मामले में आगे रहा है। वोडाफोन में करीब 150 करोड़ डाॅलर का इन्वेस्टमेंट देश में किया है। जिसके बाद वीडियोकाॅन इंटरनेशनल इलेक्ट्राॅनिक्स का नंबर आता है जिसने करीब 71 करोड़ डाॅलर का इन्वेस्ट किया है। वहीं टेलीनाॅर ने 57 करोड़ डाॅलर, सिस्टमा श्याम टेलीसर्विसेज ने 45 करोड़ डाॅलर, भारती इंफ्राटेल ने 24 करोड़ डाॅलर और आइडिया सेल्युलर ने करीू 12 करोड़ डाॅलर का इन्वेस्ट देश में किया है। पिछले दो सालों में देश में लगी मोबाइल निर्माण इकाइयों ने भी करीब 38,300 नई नौकरियां जनरेट की है। देश में ताइवान की कंपनी फाॅक्सकाॅन ने सबसे ज्यादा 8000 नौकरियां दी है।

आप टेकसंदेश के Guides/ How To सेक्शन में जाकर भी अन्य आर्टिकल पढ़ सकते हैं। ज्यादा जानकारी के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्वीटर या यूट्यूब पर बने रहें।

Check Also

बहुत काम के हैं ये 15 गूगल क्रोम एक्सटेंशन! क्या आपने डाउनलोड किए?

गूगल क्रोम एक्सटेंशन बहुत छोटी साइज के प्रोग्राम होते हैं जो आपके ब्राउजर में नए …