Tuesday , June 27 2017
make in india smartphones
make in india smartphones

OPPO & Vivo भी करेगें मेक इन इंडिया में भागीदारी, 4000 करोड़ का करेगें इन्वेस्टमेंट

पिछले एक साल में हमने इंडिया में स्मार्टफोन निर्माण के मामले में एक नया बदलाव देखा है। ‘मेक इन इंडिया’ पहल के साथ कई कंपनियों अलग-अलग हिस्से लाकर स्मार्टफोन को देश में ही असेम्बल कर रही है। इससे पहले लगभग सभी कंपनियां पूरी तरह से बाहर से निर्मित डिवाइसेज को चीन, ताइवान या वियतनाम जैसे देश से मंगवाती थी। हालांकि जिन डिवाइस पर मेड इन इंडिया का टैग लगा होता है वह भी इंडिया में केवल असेम्बल होते है। हमने कंपनियों को चीन से पैकेज स्टिकर और बुकलेट तक मंगवाते देखा है। अब एक लेटेस्ट रिपोर्ट के मुताबिक आॅप्पो और वीवो भी देश में 2-2 हजार करोड़ रुपए का इन्वेस्टमेंट करने की प्लानिंग कर रहे हैं और अपना निर्माण प्लांट लगाने जा रहे हैं। दोनों कंपनियां इसके लिए ग्रेटर नोएडा में 200 एकड़ जमीन भी देख रहे हैं।

आॅप्पो की इन्वेस्टमेंट के बारे में यह जानकारी पुख्ता है। कंपनी 1000 करोड़ रुपए खुद लगाएगी और बाकि के 1000 करोड़ वेंडर्स से मिलेगें। वहीं दूसरी ओर वीवो को जमीन संबंधी कुछ समस्याओं का भी सामना करना पड़ रहा है जिन्हें जल्द ही हल कर लिया जाएगा। आॅप्पो भी आवंटित जमीन में करीब 30,000 लोगों के रहने लायक टाउनशिप बनाएंगा। यह कंपनी के कर्मचारियों के रहने के लिए होगा। हालांकि ये निर्माण प्लांट देश की इकाॅनोमी पर भी अभी ज्यादा असर नहीं डालेगें, लेकिन आने वाले समय में बहुत बड़ी साझीदारी निभाएंगे। पिछले ही महीने, दुनिया का तीसरा और चीन का नंबर वन स्मार्टफोन ब्रांड हुवावे ने भी फ्लेक्स टेलीकाॅम से साझेदारी कर चेन्नई में अपना एक निर्माण यूनिट खोली है। कंपनी इस महीने से यहां से अपने हाॅनर स्मार्टफोन बनाना भी शुरू कर देगी।

इस समय असेम्बलिंग यूनिट इंडिया में एक छोटी संख्या में नौकरियां दे रही है। लेकिन एक बार जब इन डिवाइस के कुछ पार्ट्स भी इंडिया में तैयार होने लगे तो देश की इकाॅनोमी तो बढेगी ही नई नौकरियां भी पैदा होगी। चाइनीज स्मार्टफोन बाजार पहले से ही अपने चरम पर है और आने वाले समय में मोबाइल फोन के बाजार में चमकता नाम इंडिया का होगा। हालांकि इंडिया में पहले से ही कई देशी और विदेशी ब्रांड्स मोजुद है, लेकिन चाइनीज कंपनियों के आने से इंडियन स्मार्टफोन बाजार बदल गया है। इससे पहले इंडियन स्मार्टफोन ब्रांड्स पूरी तरह से रिब्रांडेड डिवाइस या चाइनीज फोन को आयात कर बेचते थे। अभी भी ज्यादातर इंडियन ब्रांड्स यही कर रहे हैं। कई चाइनीज ब्रांड्स तो इंडिया को अपना दूसरा घर तक बना चुके हैं। ब्रांड जैसे शाओमी अन्य कंपनियों की तुलना में उसी कीमत पर कई अच्छे स्पेशिफिकेशन वाले स्मार्टफोन आॅफर कर रहे हैं।

ब्रांड जैसे आॅप्पो, जियोनी और वीवो की भारतीय बाजार में पहले से भी आॅफलाइन भी अच्छी मौजुदगी है। आॅप्पो और वीवो पहले से ही देश के टाॅप 10 स्मार्टफोन ब्रांड्स की लिस्ट में है। वहीं दूसरी ओर ये दोनों चाइनीज ब्रांड्स दुनिया में टाॅप 5 की लिस्ट में भी आते हैं। इन स्मार्टफोन ब्रांड्स के लिए अगली महत्वपूर्ण चीज होगी देश में स्मार्टफोन का निर्माण करना। लिनोवो, शाओमी और जियोनी जैसे ब्रांड पहले से ही फाॅक्सकाॅन की फैक्टरी का इस्तेमाल अपने डिवाइस असेम्बल करने के लिए कर रहे हैं।
केवल असेम्बल करने के बजाय, हम आशा कर सकते हैं कि यह ब्रांड पूरी तरह से स्मार्टफोन को मेड इन इंडिया करें। जिसमें सभी पार्ट्स आदि चीन से मंगवाने के बजाय देश में ही बने।

आप टेकसंदेश के Guides/ How To सेक्शन में जाकर भी अन्य आर्टिकल पढ़ सकते हैं। ज्यादा जानकारी के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्वीटर या यूट्यूब पर बने रहें।

Check Also

weather android apps

डाउनलोड – एंड्राॅयड स्मार्टफोन के लिए बेस्ट मौसम ऐप्स & विजेट्स

एंड्राॅयड स्मार्टफोन को इसके विजेट्स आईफोन आदि से अलग बनाते हैं। एंड्राॅयड स्मार्टफोन के लिए …